Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

घनाक्षरी छन्द

साथी संग तुम आओ
———–००———–
झूठ खड़ा है छांव में , नगर मेरे गांव में ,
मूक है चेतन बैठे , जड़ता फैली राह में ।
हो रहें दृश्य धुंधले , दिन अच्छे जीवन में,
अंधे बेचते आईना , दुनिया के सराह में ।
अवशेष भरोसे के , बिखरे घर द्वार में ,
कैसे पहुंचे पालकी , कहार लूटे सारेराह में।
नित ही कागा कूक दे , भेद भरा बयार में ,
साथी संग तुम आओ ,देश हित की चाह में ।
———————०००———————–
शेख जाफर खान

6 Likes · 10 Comments · 132 Views
You may also like:
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
** शरारत **
Dr. Alpa H. Amin
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Buddha Prakash
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
"अशांत" शेखर
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
✍️मुमकिन था..!✍️
"अशांत" शेखर
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...