Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

घनाक्षरी छन्द

साथी संग तुम आओ
———–००———–
झूठ खड़ा है छांव में , नगर मेरे गांव में ,
मूक है चेतन बैठे , जड़ता फैली राह में ।
हो रहें दृश्य धुंधले , दिन अच्छे जीवन में,
अंधे बेचते आईना , दुनिया के सराह में ।
अवशेष भरोसे के , बिखरे घर द्वार में ,
कैसे पहुंचे पालकी , कहार लूटे सारेराह में।
नित ही कागा कूक दे , भेद भरा बयार में ,
साथी संग तुम आओ ,देश हित की चाह में ।
———————०००———————–
शेख जाफर खान

7 Likes · 10 Comments · 245 Views
You may also like:
हादसा जब कोई
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr. Kishan Karigar
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दया करो भगवान
Buddha Prakash
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
उम्मीद है कि वो मुझे .....।
J_Kay Chhonkar
सपना देखा है तो
कवि दीपक बवेजा
Writing Challenge- घर (Home)
Sahityapedia
लाइलाज़
Seema 'Tu hai na'
*पिता की याद आई (गीत )*
Ravi Prakash
ए ! सावन के महीने क्यो मचाता है शोर
Ram Krishan Rastogi
“ स्वप्न मे भेंट भेलीह “ मिथिला माय “
DrLakshman Jha Parimal
मोरे सैंया
DESH RAJ
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
शहद वाला
शिवांश सिंघानिया
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
अच्छा किया तुमने।
Taj Mohammad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Saraswati Bajpai
तेरी खूबसूरती
Dalveer Singh
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
अंदाज़े मुहब्बत नया होगा
shabina. Naaz
ज़िन्दगी
akmotivation6418
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा
मुन्ना मासूम
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
रात
अंजनीत निज्जर
Loading...