Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 30, 2017 · 1 min read

सांसें

आंखों से आंसू टप टप गिर रहे थे
सीने से गमो के तूफान उठ रहे थे
बोटी बोटी इन्सानियत का कत्ल हुआ था
एक जंगली भेड़िये से इन्सान डर रहा था ।

रिश्ता नही था किसी का उससे
सड़क किनारे जो रो रहा था
इन्सानो की बस्ती मे हर कोई
उसे जानवर सा लग रहा था ।

हाथ जोड़कर जीने की भीख
वो मांग रहा था
पैसे जो मेहनत से कमाये थे
उन्हे बचाने के लिए आज जान गंवा रहा था ।

चांद पे जाने वाला इन्सान
लोहे के औजारों से कांप रहा था
धरती पर जिन्दा रहने के लिये
आज अपनी सांसे बचा रहा था ।।

राज विग

182 Views
You may also like:
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
बुआ आई
राजेश 'ललित'
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...