#10 Trending Author

# सांग /किस्सा – महात्मा बुद्ध # अनुक्रमांक-36 # बीत गए युग फिरते-फिरते, चैरासी के फेरे मै, बात पूराणी गया जमाना, वचन भूलग्या तेरे मै ।। टेक ।।

# सांग /किस्सा – महात्मा बुद्ध # अनुक्रमांक-36 # जवाब – महात्मा बुद्ध का।

बीत गए युग फिरते-फिरते, चैरासी के फेरे मै,
बात पूराणी गया जमाना, वचन भूलग्या तेरे मै ।। टेक ।।

सौ-2 बार जन्म तेरा-मेरा, दुनिया मै इतिहास होया,
कदे तू थी चेली पार्वती की, मै भोले का दास होया,
नागण-नाग, शेर-सिंहणी, कदे काग, हंसणी-हांस होया,
कदे हाम गन्धर्व तू होई नृतकी, हूर सूरग मै रास होया,
14 विद्या, 18 सिद्धि, 64 कलां थी मेरे मै ।।

कदे पशु-परिंदे, असुर-देवता, कदे पिकम्बर-पीर बणे,
कदे होए नृप छत्रधारी, कदे रमते-राम फकीर बणे,
कदे भूखे-मंगते कोढी-कंगले, कदे हम सेठ अमीर बणे,
करणी मै भंग पड़या फेर भी, पेड़ नदी कै तीर बणे,
कदे बणके भील पारधी, डाकू प्रसिद्द चोर-लुटेरे मै ।।

मै तेरा पिता होया कै बार, तू होई बेटी तनै के बेरा,
कै बार भाई बाहण हो लिए, एक उदर मै था डेरा,
कै बार मै तनै ब्याहके ल्याया, बांध कांगणा सिर सेहरा,
कै बार तै मेरी माता हो ली, कै बार मै बेटा तेरा,
पागल दुनिया पड़ी भूल मै, इस गफलत के झेरे मै ।।

इब रट गोबिंद पार होज्यागी, लख्मीचंद की बण दासी,
मांगेराम गुरू का पाणछी, लिए धाम समझ कांशी,
कवियां मै संगीताचार्य, गांव लुहारी का बासी,
कथ दिया सांग महात्मा बुद्ध का, बणी रागणी फरमासी,
दुनिया चांद पै गई तू क्यूँ रहग्या, राजेराम अंधेरे मै ।।

205 Views
You may also like:
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
दया करो भगवान
Buddha Prakash
पिता
Shailendra Aseem
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
शिव शम्भु
Anamika Singh
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**किताब**
Dr. Alpa H.
मैं
Saraswati Bajpai
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H.
Loading...