Aug 30, 2016 · 1 min read

साँवरे

साँवरे सूरति पर बारम्यार ,बलिहारी जाऊँ मैं
चुरा-चुरा माखन खाय ,,देख कर ललचाऊँ मैं
कान्हा प्रीति करो मुझ ,बाबलीं को मन चुरा
अंग -अंग का भेद खत्म ,तू हो बस केवल मैं

मुरली मुझे बनालो प्रभु ,अधरों से लगा लो
लगा अधरों से बजा, सारी गौअन बुला लो
अंग समा लो तिहारी ,मैं राधा जग जाने प्रभु
कान्हा अंग रंग बसू , मुरली कटि से लगा लो

कान्ह मधुर बजाना ,मुरली बैठ नदी के तीर
करूँ मैं सनान गोपियों के संग शीतल समीर
मत ले जा कान्हा मेरे तुम बसन करके हरण
छाया कान्ह तुझसे जा कैसे रह पाऊँ मैं दूर

71 Likes · 186 Views
You may also like:
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H.
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मां
हरीश सुवासिया
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
ख्वाब
Swami Ganganiya
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H.
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जो बीत गई।
Taj Mohammad
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
यादें आती हैं
Krishan Singh
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H.
Loading...