Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 1 min read

साँवरे

साँवरे सूरति पर बारम्यार ,बलिहारी जाऊँ मैं
चुरा-चुरा माखन खाय ,,देख कर ललचाऊँ मैं
कान्हा प्रीति करो मुझ ,बाबलीं को मन चुरा
अंग -अंग का भेद खत्म ,तू हो बस केवल मैं

मुरली मुझे बनालो प्रभु ,अधरों से लगा लो
लगा अधरों से बजा, सारी गौअन बुला लो
अंग समा लो तिहारी ,मैं राधा जग जाने प्रभु
कान्हा अंग रंग बसू , मुरली कटि से लगा लो

कान्ह मधुर बजाना ,मुरली बैठ नदी के तीर
करूँ मैं सनान गोपियों के संग शीतल समीर
मत ले जा कान्हा मेरे तुम बसन करके हरण
छाया कान्ह तुझसे जा कैसे रह पाऊँ मैं दूर

Language: Hindi
Tag: कविता
71 Likes · 416 Views
You may also like:
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
छठ पर्व
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
युवा आक्रोश का कवि
Shekhar Chandra Mitra
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
गुलिस्तां
Alok Saxena
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
💐योगं विना मुक्ति: नः💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज़ादी का अमृत महोत्सव
बिमल तिवारी आत्मबोध
'%पर न जाएं कम % योग्यता का पैमाना नहीं है'
Godambari Negi
माँ दुर्गा।
Anil Mishra Prahari
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
किस अदा की बात करें
Mahesh Tiwari 'Ayen'
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
दस्तक
Anamika Singh
*भरा है नेह से जो भी, उसी की शुद्ध काया...
Ravi Prakash
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खुदा से एक सिफारिश लगवाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
✍️शराब का पागलपन✍️
'अशांत' शेखर
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️जन्मदिन✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पिनाका
Utkarsh Dubey “Kokil”
नेकियां उसने गिनके रक्खी हैं
Dr fauzia Naseem shad
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
Loading...