Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 4, 2022 · 2 min read

सही दिशा में

लोहा आग में तापकर ;
लोहार कि मार –
बनाता है मनोहर ,
इन्सान से होता है ;
इन्सानियत बढ़कर ,
जीवन की बेला ;
देख लो सच्चाई कि –
पथ में चलकर ;
खुद को पा के अकेला !
भटक ना जाये ! तेरा पथ –
थाम ले गुरू का हाथ !
चल ले दो कदम गुरू के साथ ,
सोना बन के चमकना ,
माटी बनकर ;
कुम्हार के हाथों में सजकर ,
खुद को आग में तापाकर ;
बेला है तेरे हाथ में –
सुधार जाओ सही दिशा में चलकर ।

चारू कर हिना को ;
शिला में घिसकर ,
जीवन को सँवर लो !
थोड़ा पसीना बहाकर ,
बनाने वाले जग को –
अद्भुत बनाया है ;
काँटें वाली डाली पे –
पुष्प को खिलाया है ,
पुष्प खुशबू को छुपाकर –
फिर महकया है ;
भटक ना जाये – तेरा पथ !
जगा ले उस शक्ति को –
तू ने जो ! तेरी अन्तर् में छिपाया है !
गुजर ले जीवन के दो पल ;
सच्चाई के साथ ।

नव तैर रहा है ;
अत्रु की सागर में ,
मसल गया सपनों की पुष्प ;
मत होना निराशा ;
मनस्थ हो अभिलाषा ,
बेला ने मारा ;
कौन देगा सहारा ;
परछाई भी होता विलुप्त !
सृष्टि जब तिमिर में लिप्त ,
मत डर निशा में !
चल तू सही दिशा में ,
आने वाला है ! कोई पूरब दिशा में ।

बेला है अनमोल ;
तेरा मर्जी ! तेरे कर्म में तोल ,
तू क्यों किस कारण ऐंठा है ?
पल – पल निकल गया !
व्यर्थ में क्यों ! तू बैठा है ?
सुन भाई तेरा भविष्य !
वर्तमान की गर्भ में बैठा है ;
चल उठ –
इसे है अब गढ़ना ;
नहीं तो ! बाद में पछतावा होगा वरना ।

ठोकर खाके ही –
सम्हाल जाना है ;
गिरके ही –
खड़ा होकर आगे बढ़ना है ;
सँघर्ष तेरा जीवन है ;
हार ना मानना है ;
तुझे आगे ही बढ़ना है ,
सँघर्ष से हो कर्म फल अवँछित ;
काटोगे अब पुलकित ;
सोच समझकर फसल तुझे बोना है !
फैले तेरा समृद्धि दसों दिशा में ;
सच्चाई के साथ चल तू सही दिशा में ।

रतन किर्तनिया
जिला :- काँकेर (छत्तीसगढ़ )
मो:- 9343698231
9343600585

1 Like · 90 Views
You may also like:
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
सौगंध
Shriyansh Gupta
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
"अशांत" शेखर
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
"अशांत" शेखर
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
तुम मेरी हो...
Sapna K S
पिता
Satpallm1978 Chauhan
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
आज के नौजवान
DESH RAJ
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...