Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2022 · 1 min read

सवाल सिर्फ आँखों में बचे थे, जुबान तो खामोश हो चली थी, साँसों में बेबसी का संगीत था, धड़कने बर्फ़ सी जमीं थी।

सवाल सिर्फ आँखों में बचे थे, जुबान तो खामोश हो चली थी,
साँसों में बेबसी का संगीत था, धड़कने बर्फ़ सी जमी थी।
घरौंदे में रेत की बुनियाद थी, बस एक झटके की कमी थी,
क़दमों के निशान भी वहाँ पड़े, जहां की धरती पे लहरों की नमी थी।
चाँद का ज़ख्म ढकते रह गयी रात, जो अब तक वो ना ढली थी,
उधर सुबह के इंतज़ार में, वो साँसें सुदूर क्षितिज़ पर थमीं थी।
विश्वास की डोर खींचे, टूटती उम्मीदों को समेटे वो तन्हा खड़ी थी,
और घातों की निरंतरता कुछ यूँ हुई, की रूह असहाय बन सहमी थी।
चिट्ठियां अनछुई रह गयीं, जो दराज के कोनों में बेलिबास पड़ीं थी,
और दस्तकें उन दरवाज़ों को नसीब हुए, जिनकी चाभियाँ सदियों से गुमीं थी।
ठहरने को बस सराय रह गए, घर की छत तो तूफानों में का की उजड़ी थी,
जिस दीप ने रोशन की थी दहलीजें, आज वो बेसहारा सी सड़क पर धूल में सनी थी।
भावनाएं एक बार फिर उबर आयीं, जो सागर की तलहटी पर पहुंच मृत पड़ीं थी,
शायद दुआओं में असर उन फूलों का था, जो कभी मंदिर की मूरत पर पुष्पांजलि बन बिखरीं थी।

3 Likes · 2 Comments · 76 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Manisha Manjari

You may also like:
मां
मां
Manu Vashistha
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
मानव छंद , विधान और विधाएं
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
Taran Verma
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
Dr Archana Gupta
Work hard and be determined
Work hard and be determined
Sakshi Tripathi
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिल तेरी जुस्तजू
दिल तेरी जुस्तजू
Dr fauzia Naseem shad
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
"लिख और दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
2262.
2262.
Dr.Khedu Bharti
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
Deepesh सहल
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-12💐
💐अज्ञात के प्रति-12💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“ लिफाफे का दर्द ”
“ लिफाफे का दर्द ”
DrLakshman Jha Parimal
ऐ दिल तु ही बता दे
ऐ दिल तु ही बता दे
Ram Krishan Rastogi
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
'अशांत' शेखर
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
*समंदर हो गया (हिंदी गजल/गीतिका)*
*समंदर हो गया (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
कागज के फूल
कागज के फूल
डा गजैसिह कर्दम
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
Shekhar Chandra Mitra
हम मुहब्बत कर रहे थे
हम मुहब्बत कर रहे थे
shabina. Naaz
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...