Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2021 · 1 min read

सलाम

कभी न यह रुके है
कभी न यह रुकेंगे
कभी न यह थके है
कभी न यह थकेंगे
भारत मां के सपूत है यह
तिरंगा फहराए बिना नहीं मानेंगे।
ठंडी- गर्मी को सहा है इन्होंने
देश को हिफाज़त रखा है इन्होंने
इनकी बदोलत ही हम
चैन से सो पाते हैं
इनकी वज़ह से ही हम
जो चाहे वो कर पाते हैं।
वर्दी जिनकी शान है,
देश को उन पर नाज है।
वहीं भारत देश के जवान है
और मेरा उन्हें सलाम है।

Language: Hindi
2 Likes · 1320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*खुशी उसकी मनाने से (मुक्तक)*
*खुशी उसकी मनाने से (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी  जाऊ
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी जाऊ
Swami Ganganiya
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
मेरे अंतस में ......
मेरे अंतस में ......
sushil sarna
"अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
Navratri
Navratri
Sidhartha Mishra
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
shabina. Naaz
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
पिया मोर बालक बनाम मिथिला समाज।
पिया मोर बालक बनाम मिथिला समाज।
Acharya Rama Nand Mandal
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
3186.*पूर्णिका*
3186.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
जीवन का सफ़र कल़म की नोंक पर चलता है
जीवन का सफ़र कल़म की नोंक पर चलता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
मेरी-तेरी पाती
मेरी-तेरी पाती
Ravi Ghayal
Loading...