Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 16, 2016 · 1 min read

सर पे सूरज खडा है चल उठजा

सर पे सूरज खडा है चल उठजा
“काम बाकी पडा है चल उठजा

तुझको दुनिया फतह करनी है
ये तकाज़ा बडा है चल उठजा

जिस्म कहता है यार सोने दे
और दिल ने कहा है चल उठजा

ख़ैर की बात है ये समझा कर
मशवरा ‘मशवरा’ है चल उठजा

रूह तक धूप आ गयी मेरी
खाव्ब कहने लगा है चल उठजा

– नासिर राव

1 Comment · 165 Views
You may also like:
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
पिता
Santoshi devi
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
बाबू जी
Anoop Sonsi
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
Loading...