Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2023 · 1 min read

सर्वोपरि है राष्ट्र

सर्वोपरि है राष्ट्र

स्वाधीनता दिवस स्मरण कराता असंख्य वीरों का बलिदान,
धर्म और जाति से ऊपर उठ कर जो हो गये देश हेतु कुर्बान।

समझना होगा कि सब धर्मों में सर्वोपरि है राष्ट्रीयता का धर्म,
जो करें राष्ट्र को सशक्त, हम सदा करते रहें ऐसे कर्म।

राष्ट्र के बल को बढ़ाती है हमारी एकता,
इसलिये समाहित हो एकता में अनेकता।

निरपेक्षता उचित अथवा अनुचित हो सकती है समय के अनुसार,
पर अति आवश्यक है इसे तजना अगर हो राष्ट्र के अस्तित्व पर वार।

विश्व विदित है भारतवर्ष का ह्रदय है अति उदार और विशाल,
जिसने माँगा उसे देश में दे दिया आश्रय और रक्खा खुशहाल।

आज आवश्यक है की हम रहें सुरक्षा के प्रति अति सावधान,
केवल सुपात्र को दें शरण-दान, देते हैं शास्त्र हमें ऐसा ज्ञान।

हो सकता है कुपात्र के कारण भविष्य ऐसा दृशय दिखाये,
कि आज का याचक दाता और दाता याचक नज़र आये।

आओ देश सम्मुख समस्याओं से आज़ादी के संघर्ष को सशक्त बनायें,
सबसे बड़ी समस्या तेज़ी से बढ़ती आबादी पर तुरंत अंकुश लगायें।

डॉ हरविंदर सिंह बक्शी
13 -8 -20 23

124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन की नैया
जीवन की नैया
भरत कुमार सोलंकी
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मन
मन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
" रीत "
Dr. Kishan tandon kranti
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुनिया
दुनिया
Jagannath Prajapati
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिनके बिन घर सूना सूना दिखता है।
जिनके बिन घर सूना सूना दिखता है।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मै नर्मदा हूं
मै नर्मदा हूं
Kumud Srivastava
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
आपसा हम जो
आपसा हम जो
Dr fauzia Naseem shad
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
Loading...