Oct 6, 2016 · 1 min read

सरस्वती वंदना : ग़ज़ल

(बह्र मजारे मुसम्मन अखरब मक्फूफ़ महजूफ
अर्क़ान: मफऊलु फाइलातु मफाईलु फाइलुन
वज्न: 221 2121 1221 212
काफ़िया: ‘आन’, रदीफ़: ‘कर’)

वंदित प्रथम गणेश हैं उनका ही मान कर.
देवी सरस्वती का मगर पहले ध्यान कर.

आसन कमल व श्वेत बसन शक्ति ब्रह्म की,
वागेश्वरी के नाम से प्रातः अजान कर.

पुस्तक व माला धारतीं हैं वीणा वादिनी,
अब लेखनी ले हाथ में उनका बखान कर.

कविता ग़ज़ल व छंद में देवी सरस्वती,
इनके सृजन श्रवण का तू पीयूष पान कर.

रहती हैं देवी ज्ञान की सत्संग हो जहाँ,
माता का करके ध्यान उसी ओर कान कर.

अर्जित किया जो ज्ञान वो माता की है कृपा,
जो भी छुपा रहा है वो सर्वस्व दान कर.

‘अम्बर’ का नत हो शीश सदा माँ के सामने,
देती हैं हम को स्नेह ये संतान जान कर.

–इंजी अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

1 Comment · 237 Views
You may also like:
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
हनुमंता
Dhirendra Panchal
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H.
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
रसीला आम
Buddha Prakash
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
यादें आती हैं
Krishan Singh
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
पिता
Ram Krishan Rastogi
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...