सरल दोहे

सुप्रभात मित्रों – (8/9/16)
शायरों के नाम एक सरल दोहा
******************************************
शायर आशिक एक से, जागें सारी रात ।
ख्वाब एक की आँख में, कलम एक के हाथ।।
*******************************************
ईश्वर व् ईश्वर तुल्य गुरुओं के सम्मान में मेरा दोहा-

गुरु गोविंद दोउ खड़े , दोनों लागूँ पाय।
एक दी मोय ज़िन्दगी, जीना एक सिखाय।।
**************************************
भरा पड़ा चहुँ और है, देखो ज्ञान अपार ।
सीखना जो चाहो तो, शिक्षक सब संसार ।।
***************************************
सप्रेम – शैलेंद्र
लखनऊ

824 Views
You may also like:
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
"साहिल"
Dr. Alpa H.
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
आप कौन है
Sandeep Albela
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
लाल टोपी
मनोज कर्ण
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
An abeyance
Aditya Prakash
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
महँगाई
आकाश महेशपुरी
"शौर्य"
Lohit Tamta
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
आपातकाल
Shriyansh Gupta
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
Loading...