Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 18, 2017 · 1 min read

सरकार

पढ़ा लिखा कभी बेकार जाता नहीं ।
फिर भी पढ़ लिख कर बेकार हूँ मैं ।।
रोजगार हो कर भी खाली खाली हूँ ।
किससे कहूँ ! क्या बेरोजगार हूँ मैं ।।
कब तक सितम यूं सहेंगें पूछा जो ।
सत्ताधारी कुछ नजरें यूँ उठ कर बोली ।।
मेरी फितरत से तो वाकिफ हैं सब ।
तुमको पता नहीं ? *सरकार हूँ मैं *।।

164 Views
You may also like:
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
💔💔...broken
Palak Shreya
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
Anoop Sonsi
अनामिका के विचार
Anamika Singh
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
पहचान...
मनोज कर्ण
बेरूखी
Anamika Singh
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हम सब एक है।
Anamika Singh
पिता
Kanchan Khanna
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...