Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#22 Trending Author
Apr 4, 2022 · 1 min read

सम्मान की निर्वस्त्रता

युग परिवर्तित हो चला, पर कुंठा अभी भी वही सताये।
सत्य पराजित हो रहा, और असत्य सर्वत्र जीतता जाये।
प्रकाशित हो रहा जग सारा, पर अंधेरे से कोई निकल ना पाये।
छिपाने को अपनी निर्बलता, दुर्बल पर ये बल आजमाये।
चीरहरण नहीं होते हैं अब, पर सम्मान की निर्वस्त्रता से कौन बचाये।
स्वंय के सुख तो फीके लगते, जब दुख पराये मनोरंजन बन जाये।
गौरव् का तो गान चल रहा, पर मन की नपुंसकता कोई सुन ना पाये।
हलाहल-पान तो शंभु कर चले, पर जिह्वा की विष-वृष्टि से कौन बचाये।
कलंकित करते निश्छल मन को, और अभ्यस्त हैं वो, ये कह कर जाये।
उज्ज्वल भविष्य के सपने गढ़कर, षड्यंत्रों की लड़ी लगाये।
शिक्षा का तो स्तर बढ़ चला, पर अज्ञानता ने पग हैं फैलाये।
मानवता की सीमा टूट रही, अब संवेदनाओं को कौन बचाये।

1 Like · 167 Views
You may also like:
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम...
Sapna K S
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
लाल टोपी
मनोज कर्ण
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
आमाल।
Taj Mohammad
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
हम सब एक है।
Anamika Singh
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...