Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..

सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ,
है यही इंसानियत का फर्ज ।
मूर्ति पूजा करो इष्ट देव की या सजदा करो ,
मतलब तो इबादत से है ना ।
भेजा तुम्हे उस मालिक ने कई नामों/ रूपों से,
उसका तुम पर है कुछ कर्ज ।
अंतकाल से पहले निभा दोगे यदि ,
इंसानियत और नेकियां,
वही उसकी बही खाते में की जाएगी दर्ज ।
कोई खुदा ,कोई ईश्वर इजाजत नहीं देता ,
की तोड़ा जाए उसका घर ।
सब में है वोह विराजमान , रूह या पूजा स्थल ,
मृत्यु के बाद सभी जायेंगे उसी की डगर ।
समझते बुझते हुए भी ए नादानो,!
यह भेदभाव का क्यों पाल रखा है मर्ज।

2 Likes · 5 Comments · 121 Views
You may also like:
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H. Amin
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
ये जमीं आसमां।
Taj Mohammad
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
Loading...