Aug 31, 2016 · 1 min read

==* समशान नजर आता है *== (गजल)

जर्रा-जर्रा इस घर का समशान नजर आता है
दर-दिवार से आंगन सुनसान नजर आता है !

जी रहा हूँ मगर बेख़ौफ़ मैं रोज इस घर में
देख कर आईना दिल परेशान नजर आता है !

जाने पतझड़ सी लगे डाली क्यों खुशियों की
रूठा रूठा सा मुझको भगवान नजर आता हैं !

ना है कोई मंजिल और ना कुछ हासिल यहाँ
मेरे ही घर वजूद मेरा मेहमान नजर आता है !

गर मिला “एकांत” कभी इस घर के साये में
तो अपना भी कोई कदरदान नजर आता है !

रोज जीता है “शशि” क्यों डर के परछाई में
अपनें ही जिंदगी से वो हैरान नजर आता है !
——————–//**–
शशिकांत शांडिले (एकांत), नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०

186 Views
You may also like:
पिता
Buddha Prakash
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम मेरी हो...
Sapna K S
खींच तान
Saraswati Bajpai
अपराधी कौन
Manu Vashistha
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H.
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
हिरण
Buddha Prakash
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
वार्तालाप….
Piyush Goel
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मातृ रूप
श्री रमण
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता
pradeep nagarwal
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
Loading...