Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 6, 2022 · 1 min read

समय के संग परिवर्तन

अवकाश के साथ साथ
ये खलक परिवर्तन तो
कर ही रही इतस्ततः
औवल की यातना में
मानुज दूर-दूरस्थ की
यात्रा पदाति ही करते
सतत् आज न्यून भी
न्यारा, परे क्यों न होता
पादचारण तो होगा न
देखे इस परिवर्तन को
मरतबा के नर होते थें
जीवंतता पर आज न
क्या‌ यही परिवर्तन है ?
सर्वपूर्व के मनुष्य तो
होते थे गत से भी निज
यही परिवर्तन जगत का ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

39 Views
You may also like:
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
Only Love Remains
Manisha Manjari
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
*रठौंडा मन्दिर यात्रा*
Ravi Prakash
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
शब्दों से परे
Mahendra Rai
मेरी लेखनी
Anamika Singh
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
*** वीरता
Prabhavari Jha
पिता
Vandana Namdev
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
Loading...