Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

समझ लिया

हमने काम से इस्तीफा देकर थोड़ा आराम क्या किया,
उसने होशोहवास में मुझे नकारा समझ लिया।
-सिद्धार्थ पाण्डेय

2 Likes · 270 Views
You may also like:
*"पिता"*
Shashi kala vyas
वक्त ए नमाज़ है।
Taj Mohammad
मंजिल
Kanchan Khanna
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
कलम बन जाऊंगा।
Taj Mohammad
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
समझा दिया है
Dr fauzia Naseem shad
महाराणा प्रताप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दही (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️एक फ़रियाद..✍️
"अशांत" शेखर
✍️फिर भी लगाव✍️
"अशांत" शेखर
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
The flowing clouds
Buddha Prakash
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
फासले
Seema Tuhaina
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
अंदाज़।
Taj Mohammad
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
Loading...