Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2022 · 1 min read

समझा दिया है

समझा दिया है वक़्त ने
दुनिया का फलसफा ।
हमको भी अब किसी से
शिकायत नहीं रही ॥

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 101 Views
You may also like:
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जहाँ तुम रहती हो
Sidhant Sharma
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल धड़कना
Dr fauzia Naseem shad
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वक्त
Annu Gurjar
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
गाँव के दुलारे
जय लगन कुमार हैप्पी
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
राजनीति मे दलबदल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ सीधी सपाट
*प्रणय प्रभात*
बोलना ही पड़ेगा
Shekhar Chandra Mitra
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
दुनिया हकीर है
shabina. Naaz
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
चार वीर सिपाही
अनूप अंबर
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
अहोई आठे की कथा (कविता)
Ravi Prakash
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
'अशांत' शेखर
नव गीत
Sushila Joshi
विश्वास मुझ पर अब
gurudeenverma198
चार्वाक महाभारत का
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...