Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Nov 9, 2016 · 1 min read

सभी पत्नियों को समर्पित एक रचना कुण्डलिया

जीवन भर कर हम बचत ,करते संचित कोष
सुनकर उसको गुप्त धन होता हमको रोष
होता हमको रोष ,हमें बस इतना कहना
समझो इसका मोल ,प्यार का है ये गहना
कहे अर्चना स्वर्ग ,बनाती है पत्नी घर
अपना मन भी मार, बचत करती जीवन भर

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 1 Comment · 379 Views
You may also like:
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Buddha Prakash
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
पिता
Dr.Priya Soni Khare
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
आस
लक्ष्मी सिंह
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Shankar J aanjna
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...