Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

— सब के बहते हैं आँसू —

लग जाए दिल पर गर कोई बात
नही गुजर सकती किसी की भी रात
बेवजह बदनाम हो जाता है दिल
अश्क बहा बहा कर गुजरती है रात

सच्चे दिल को जब लगती है ठेस
नही रह पाता काबू वो शक्श
कहने से भी डरता है अल्फाजों से
कहीं किसी दुसरे को न लग जाए ठेस

दुनिया का क्या है बहकाने लगी है
अपनी बात बस मनवाने लगी है
कोई लेकर बैठा होगा न जाने कितने अरमान
पर सामने वाले को कहाँ समझ आने लगी है

कहीं समझना , और कहीं समझौता करना
बस अपने दिल से मिलकर बातें करना
क्या कहें किसी से दिल की बातों को
चुपचाप रहना , बस आहें ही भरना

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

1 Like · 146 Views
You may also like:
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तलाश
Seema 'Tu haina'
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
✍️मैं अपने अंदर हूं✍️
'अशांत' शेखर
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
सूरज काका
Dr Archana Gupta
सफ़र में छाया बनकर।
Taj Mohammad
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
'अशांत' शेखर
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
✍️आरसे✍️
'अशांत' शेखर
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
प्यार अंधा होता है
Anamika Singh
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जख्म
Anamika Singh
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...