सबूत मांगने वालों को मिल ही गया मुंह तोड़ जवाब

सबूत मांगने वालों को मिल ही गया मुँह तोड़ जवाब,
देखो पीओके वालों ने खुद ही दे दिया सारा हिसाब।

जो दोगले नेता सेना पर भी उठा रहे थे सवाल कल,
अपने स्वार्थ को वो ही करते देश का माहौल खराब।

शक्ल छिपाने को ढूंढ़ रहे होंगे कोई ठिकाना आज,
नींद नहीं आएगी उन्हें रात काटेंगे पीकर वो शराब।

पूरी दुनिया कँधे से कँधा मिलाकर खड़ी है साथ में,
अपने ही देश को नीचा दिखाने पर तुले हैं वो जनाब।

भूल गए वो नवाज शरीफ ने क्या कहा था उसी दिन,
सर्जिकल स्ट्राइक हुई है और बदला लेने को हैं बेताब।

बस उन्हें विरोध करना आता है, तथ्य देखने नहीं आते,
इतने फैले पड़े हैं सबूत चारों और चाहे लिख लें किताब।

सुलक्षणा जनता देख रही है इनकी हर एक करतूतों को,
ये मारेगी ऐसी वोटों की मार, डरावने आएंगे उन्हें ख्वाब।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Comments · 139 Views
You may also like:
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ
आकाश महेशपुरी
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
Loading...