Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सबके लिए ससुराल नहीं है ‘गेंदा फूल’

कवि मिथिलेश राय की कविता तो पढ़िये कि कैसे एक उम्र व पड़ाव आने के बाद स्त्रियाँ मरद बन जाती हैं ? सत्यश:, इस कविता ने अबतक बाँधे रखी, तो इसे आप भी पढ़ लीजिए ! अर्थात-
“एक उम्र के बाद स्त्रियाँ मरद हो जाती है
वे तनकर चलती हैं, तेज बोलती हैं
और जोर-जोर से हँसती हैं
उनकी आँखों में शर्म घट जाती हैं !”
22 अक्टूबर को ‘सास दिवस’ होती है शायद ! ….परंतु समस्त सासवाले व सासवालियों के लिए ससुराल गेंदा फूल नहीं है !

वाकई में, जो सच कहते हैं, लोग सबसे ज्यादा नफ़रत उसी से करते हैं ! ऐसा प्लेटो ने कहा है। वहीं फिर उच्च शिक्षित बेटी को उनकी योग्यता के अनुरूप वर ढूँढ़ कर भी नहीं मिलते ! मिलते भी तो उपहार के रूप में उच्च माँग वरवाले की तरफ से किये जाते ! जब यहाँ दहेजनिषेध की बात होती, तो कहते कि यह तो आप अपनी बेटी को ही उपहार दे रहे हो ! ज्यादा जोर देने पर कि उपहार भी जबरन ली जाय, तो यह दहेज ही कहलायेगा ! तब फिर रंगभेद शुरू… कि आपकी बेटी काली है, कुरूप है। उसने पीएचडी कर लिया तो क्या ?

भारत में उच्च शिक्षित महिलाओं का अगर सर्वे की जाय, तो 80% महिलाएं अविवाहित ही होंगी ! शादी की योग्यता में वर -वधू के बीच 19 -20 का अंतर चल सकता है, किन्तु 10 -20 का अंतर तो उन उच्च शिक्षित नारियों के लिए ताउम्र दब्बूपना स्थिति लिए होगी !

2 Likes · 1 Comment · 155 Views
You may also like:
शहीद होकर।
Taj Mohammad
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
अब जो बिछड़े तो
Dr fauzia Naseem shad
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी की अहमियत।
Taj Mohammad
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मन की बात✍️
'अशांत' शेखर
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
✍️हार और जित✍️
'अशांत' शेखर
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कल्पना
Anamika Singh
✍️चाँद में रोटी✍️
'अशांत' शेखर
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
✍️रूह-ए-इँसा✍️
'अशांत' शेखर
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
इश्क।
Taj Mohammad
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खफा है जिन्दगी
Anamika Singh
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
Loading...