Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

सबकुछ बदल गया है।

किस्मत ना बदली सबकुछ बदल गया है।
जवानी निकल गईं है बुढ़ापा शुरू हुआ है।।

क्या बताए हाल ए जिंदगी बस यूं समझिए।
मेरी ही कश्ती डूबी सबको किनारा मिल गया है।।

नाम था मान था इज्जत थी शोहरत थी।
ताज तुमनें खुद ही सबको खुद से जुदा किया है।।

सबकुछ करने दिया हमारे इस दिल ने हमको।
पर इस दुनियां में बस पैसा कमानें ना दिया है।।

सुनता था जिंदगी बदल जाती है इक पल में।
बस उसी पल को खुदाने मेरे हिस्से ना दिया है।।

जितने थे अरमां वो सारे के सारे मर गए है।
जब भी की ख्वाहिश बस दम निकल गया है।।

तमाम उम्र हमारी गर्दीशों में कट गई।
पढ़ना लिखना सब ही बेकार हो गया है।।

अहसासे कमतरी पे खूब रोना आया है।
ताज भीड़ से निकल कर तन्हाई में रो दिया है।।

हर बार किस्मत मुझे यूं ही धोखा देती है।
मकसूदे मंज़िल पर आकर दम निकल गया है।।

शायद अब बदल जाए यह मेरी ज़िंदगी।
यही सोचकर ताज हर सितम सह गया है।।

ख्वाहिशें तो ना निकली है इस दिल से।
पर लोग कहेंगे ताज का जनाजा निकल रहा है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
2225.
2225.
Dr.Khedu Bharti
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
Surinder blackpen
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
■ एक बहाना मिलने का...
■ एक बहाना मिलने का...
*Author प्रणय प्रभात*
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
दिल है या दिल्ली?
दिल है या दिल्ली?
Shekhar Chandra Mitra
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
*वीर सावरकर 【गीत 】*
*वीर सावरकर 【गीत 】*
Ravi Prakash
पगार
पगार
Satish Srijan
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेशवर प्रसाद तरुण
वो दिन आखिरी था 🏫
वो दिन आखिरी था 🏫
Skanda Joshi
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
रहस्य
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Sakshi Tripathi
एक अदद इंसान हूं
एक अदद इंसान हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कविता
कविता
Shyam Pandey
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
सच की पेशी
सच की पेशी
सूर्यकांत द्विवेदी
कोरे कागज पर...
कोरे कागज पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-334💐
💐प्रेम कौतुक-334💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क़ीमत नहीं होती
क़ीमत नहीं होती
Dr fauzia Naseem shad
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
Sandeep Pande
Loading...