सफ़र आसान हो जाए

गुमनाम राहो पर एक नयी पहचान हो जाए
चलो कुछ दूर साथ तो, सफ़र आसान हो जाए||

होड़ मची है मिटाने को इंसानियत के निशान
रुक जाओ इससे पहले, ज़हां शमशान हो जाए||

वक़्त है, थाम लो, रिश्तो की बागडोर आज
ऐसा ना हो कि कल, भाई मेहमान हो जाए||

इंसान हो इंसानियत के हक अदा कर दो
ऐसा ना हो ये जिंदगी, एक एहसान हो जाए ||

अपनी ही खातिर आज तक जीते चले आए
आओ चलो किसी और की, मुस्कान हो जाए ||

156 Views
You may also like:
An abeyance
Aditya Prakash
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
सच्चा प्यार
Anamika Singh
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
पापा की परी...
Sapna K S
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
उस दिन
Alok Saxena
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
Loading...