Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2022 · 1 min read

सफलता कदम चूमेगी

है किसके इंतज़ार में
कोई जगाएगा नहीं तुम्हें
किया है जो प्रण तुमने
करना है वो पूरा बस तुम्हें

चढ़ना है पहाड़ की चोटी
अपने तेवर दिखाने होंगे तुमको
आज नहीं तो कल मित्रों
अपने कदम बढ़ाने होंगे तुमको

कोई चमच से खिलाएगा नहीं
निवाला अपने हाथों से खाओ
घोड़े की सवारी करके नहीं
पहाड़ की चोटी खुद चढ़कर आओ

है जो मज़ा मेहनत की कमाई में
बैसाखी के सहारे में वो है कहां
अपने दम पर पाओगे जब शिखर
ऐसी संतुष्टि मिलेगी फिर कहां

किसी के कहने से कुछ होगा नहीं
मैदान में खिलाड़ी आज तू ही है
तुझे ही करना है सबकुछ यहां
लाखों दिलों की आस आज तू ही है

अपने लक्ष्य को साधने का सही मौका है
है वक्त थोड़ा, चूकने का भी समय नहीं
दिखा दे आज अपनी ताकत और जुनून
तेरी मेहनत का हिसाब होगा आज यहीं

पूरी कोशिश करने के बाद भी
जो इस बार सफल हुआ नहीं तू अगर
मेहनत करते रहना, हौसला रखना
कभी भी हार मत मानना तू मगर

मेहनत का फल कभी ज़ाया नहीं जाता
है, यकीं, तेरे चेहरे पर मुस्कान खिलेगी
एक दिन सफलता कदम चूमेगी तेरे
मेहनत से ही तेरी मंज़िल तुझे मिलेगी।

Language: Hindi
16 Likes · 3 Comments · 903 Views
You may also like:
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
मेरे प्यारे भईया
Dr fauzia Naseem shad
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
नहीं छिपती
shabina. Naaz
मोबाइल का आशिक़
आकाश महेशपुरी
~~~ स्कूल मेरी शान है ~~~
Rajesh Kumar Arjun
हमारा हौसला इश्क़ था - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सबेरा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दुश्वारियां
Taj Mohammad
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
समय
Saraswati Bajpai
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं "रमेश चन्द्र...
Deepak Kumar Tyagi
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
निर्भया के न्याय पर 3 कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*शेर और बिल्ली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
✍️रूह के एहसास...
'अशांत' शेखर
क्या करें हम?
Shekhar Chandra Mitra
श्रद्धा
मनोज कर्ण
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...