Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सफर ये जो सुहाना है ।

सफ़र ये जो सुहाना है
होनी अनहोनी तो एक बहाना है
डूबते को तूने बचाना है
गिरते को उठाना है
बन जाओ पर्वत शिला तुम
ऐसा मुकाम तुझे पाना है
मुश्किलों में संभलते जाना है
हंसते हंसते खुशी के गीत गाना है
राह कैसी भी हो पर नेक हो
राही ने चलते जाना है
खफा हुए मुद्दतों से जो
तूने कोशिश कर मिलाना है
कर सका तू दुनिया के वास्ते कुछ
समझना हुआ सफल तेरा धरा पे आना है
पर इस उलझन में तूने
उस परमपिता को नहीं भुलाना है
मुमकिन नहीं मिले जो हमें पाना है
फिर भी तूने कोशिश करते जाना है
क्योंकि
सफर ये जो सुहाना है
होनी अनहोनी तो एक बहाना है..

© के.एस. मलिक 01.04.2014

2 Comments · 204 Views
You may also like:
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
दौलत देती सोहरत
AMRESH KUMAR VERMA
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
बेजुबान
Dhirendra Panchal
Waqt
ananya rai parashar
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
Feel it and see that
Taj Mohammad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
अनामिका सिंह
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
एक वही मल्लाह
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिश्ता नहीं जाता
Dr fauzia Naseem shad
Loading...