Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 17, 2017 · 1 min read

-सपूत भारत माता का –

वाणी में जिसकी मिलती,
सिंह जैसी दबंग दहाड़।
कर्मठ ऐसा वह जैसे,
हो कोई सुदृढ़ पहाड़।
जिसने विश्व में भारत,
का परचम लहराया।
दुश्मन भी अब हम पर,
आंख उठाने में थर्राया।
वह बहादुर हस्ती हैं,
हमारे प्रिय श्री नरेंद्र मोदी।
जिसके सम्मुख बड़े-बड़े,
महारथियों ने अपनी हेकड़ी खो दी।
जी एस टी के तोहफे से,
जनता को करों के जंजाल से उबारा।
स्वच्छता अभियान के साथ,
एक भारत श्रेष्ठ भारत का दिया नारा।
डिजिटल भारत, कैशलेस भारत द्वारा,
देश को बनाया सबल।
बेटी बचाओ बेटी पढाओ के,
नारे से नारी को मिला नया सम्बल।
देते आ रहे थे अब तक जो,
पत्थरबाजों को निवाला।
उन देशद्रोहियों का कर,
दिया देश निकाला।
सेना चुन-चुन कर बना,
रही है उनकी चटनी।
वादी से हो रही है,
अब गद्दारों की छंटनी।
नारी शक्ति की राह से,
कंटकों को कर डाला साफ।
मुस्लिम बहन बेटियों को,
दिलाया पूरा इंसाफ।
दुखी पीड़िताओं को ढोंगी साधुओं,
के चंगुल से बाहर निकाला।
ऐसे कुकर्मियों को दी कठोर सजा,
सीधे ही जेलों में डाला।
सकल विश्व में भारत का,
मान – सम्मान बढ़ाया प्रतिपल।
भारत की बढ़ती शक्ति से,
अभिभूत है संसार सकल।
भारत के इस महान सपूत का,
रोम – रोम गाता है भारत के गुण गान।
भारत का यह बेटा चाहता है,
भारत को बनाना विश्व में सबसे महान।

——रंजना माथुर दिनांक 30/08/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

1 Like · 1 Comment · 364 Views
You may also like:
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
समय ।
Kanchan sarda Malu
सुन्दर घर
Buddha Prakash
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
Loading...