Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2022 · 1 min read

सपनों में खोए अपने

वो नींद में सोए हैं
कितने सुकून से सोए हैं
देखकर खुशी हो रही है
जो वो सपनों में खोए हैं

है वो जहान मेरा
मेरे साथ ही सोए हैं
है रहमत ऊपरवाले की
हम साथ ही सोए हैं

देखकर खुशी चेहरे पर इनके
खुशी होती है मुझे भी
जब नींद आती है इनको, तभी
नींद आती है मुझे भी

उठाया है जल्दी, रब ने मुझे
यही दृश्य देखने को आज
देखकर इनके चेहरे पर सुकून
मुझे भी मिल रहा सुकून आज

है मेरा हमसफ़र भी नींद में
दिनभर के काम से थक गया है
आराम चाहिए उसको भी थोड़ा
अपनी दिनचर्या से पक गया है

उठाने की कोशिश करूं बच्चे को तो
और सोने की जिद्द करता है वो
हो रहा स्कूल जाने का समय
लेकिन थोड़ा और सोना चाहता है वो

हो गई अब सुबह, है रोशनी चारों ओर
कह रही है वो जगने को सबको
लेकिन, मैं चाहता हूं ऐसे ही सोते हुए
देखता रहूं कुछ देर और इन दोनों को।

Language: Hindi
7 Likes · 1 Comment · 811 Views
You may also like:
औरत एक अहिल्या
Kaur Surinder
✍️कुछ हंगामा करना पड़ता है✍️
'अशांत' शेखर
नया नियम है (बाल कविता)
Ravi Prakash
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*प्रणय प्रभात*
होली
लक्ष्मी सिंह
'धरती माँ'
Godambari Negi
मुख्तालिफ बातें।
Taj Mohammad
हमारी बस्ती की पहचान तथागत बुद्ध के नाम
Anil Kumar
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
एक अलबेला राजू ( हास्य कलाकार स्व राजू श्रीवास्तव के...
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌺🌺मूले वयं परमात्मनः अंशः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मानपत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
  " परिवर्तन "
Dr Meenu Poonia
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
कला
मनोज कर्ण
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मेरे सपने
सूर्यकांत द्विवेदी
ठान लिया है
Buddha Prakash
बगावत का आग़ाज़
Shekhar Chandra Mitra
माँ
shabina. Naaz
गुरु की महिमा***
Prabhavari Jha
महाकवि दुष्यंत जी की पत्नी राजेश्वरी देवी जी का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुझ में जो खो गया है वह मंज़र तलाश कर।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आओ मनायें आजादी का पावन त्योहार
Anamika Singh
Loading...