Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 12, 2016 · 1 min read

सपने

.सपने
कुछ सपने नहीं होते कभी पूरे
और रहते हैं सदा जवां
नहीं होते कभी बूढ़े
बस रख जाते हैं गिरवी समय के हाथों
पर आ जाते हैं जरा अच्छा समय देख कर
ब्याज के साथ अपना मूल माँगने
खङे हो जाते हैं मन की ड्योढ़ी पर जरा खुशी देखते ही
देने लगते हैं दस्तक कहीं बहुत समय से बंद दरवाजे पर
हाँ नहीं खोल पाते सांकल अपनी परंपराओं की
और नहीं करपाते स्वागत वर्षों से इंतजार में खड़े इन मेहमानों का
और फिर एक बार फिर अनसुना कर देते हैं कुछ मधुर आवाजों को
और खो जाते हैं जिंदगी की जद्दोजहद की भीड़ में
रह जाते हैं फिर वही कुछ कुवांरे सपने
जो ना कभी कर पाये पाणिग्रहण जिंदगी से
पर नहीं हुये बूढ़े
रहे सदा जवाँ कुछ सपने
जो होते नहीं पूर

3 Comments · 242 Views
You may also like:
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Santoshi devi
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
तीन किताबें
Buddha Prakash
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन
शेख़ जाफ़र खान
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
Green Trees
Buddha Prakash
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
प्यार
Anamika Singh
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Kanchan Khanna
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...