Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2021 · 1 min read

सपना देखा है तो

स्वप्न जो देखा है तो स्वप्न को मुकम्मल करना
मुफलिसी खुदा ने ना बख्शी किसी को मुकद्दर में।।

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 566 Views
You may also like:
तेरे हर एहसास को
Dr fauzia Naseem shad
कर्मण्य
Shyam Pandey
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
पलटू राम
AJAY AMITABH SUMAN
मुक्तक
सूर्यकांत द्विवेदी
💐💐बेबी मेरा टेस्ट ले रही💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल ने
Anamika Singh
दुनिया हकीर है
shabina. Naaz
✍️ बस में कर लिया है समंदर✍️
'अशांत' शेखर
ध्यान
विशाल शुक्ल
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
गायक मुकेश विशेष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक - एक दिन करके यूं ही
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
मुझको रूलाया है।
Taj Mohammad
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
Writing Challenge- वर्तमान (Present)
Sahityapedia
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
इश्क़ की जुर्रत
Shekhar Chandra Mitra
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
,अगर तुम हमसफ़र होते
Kaur Surinder
गुरु तेग बहादुर जी का वलिदान युगों तक प्रेरणा देगा।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सफल इंसान की खूबियां
Pratibha Kumari
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
Loading...