Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 1 min read

‘सनातन ज्ञान’

सनातन धर्म की जड़ें इतनी गहरी हैं जैसे अमर बेल की जड़ अदृष्य रहती है शिवत्व का भेद जानना दुष्कर है।तभी तो दुनिया का एक विशिष्ट धर्म है। बाकी देशों की सभ्यता संस्कृति में कुछ समानता हो भी सकती है। पर सनातन जैसे विचारधारा शायद ही हो। ज्ञान विज्ञान , में भारत का तो कोई सानी ही नहीं। चिकित्सा जगत हो ,खगोलशास्त्र हो , तंत्र मंत्र ध्यान योग के अद्भुत चमत्कार ,वास्तु शिल्प, जीवन जीने की कला, आचरण संबंधित का ज्ञान उदारता, सहिष्णुता वीरता शौर्य में भी परिपूर्ण। इसका पार पाना भी दुष्कर है।
जब हृरणाक्ष्य ने धरती को चुराकर समुद्र में छुपा दिया था तब श्री हरि ने पृथ्वी को वरहावतार लेकर बचाया ऐसी कथा वेदों में है। पृथ्वी का अस्तित्व आज के वैज्ञानिक खोज से पहले था । पृथ्वी की आकृति कैसी है यह वेदों में वर्णित है।वैज्ञानिकों ने पृथ्वी की गोल आकृति की खोज बाद में की पर सनातन ज्ञान में पहले से पृथ्वी को गोल आकार का बताया गया है । जगन्नाथ मंदिर की यह मूर्ति हजारों साल पुरानी है।इसमें देखिए श्री हरि ने जल में डूबी हुई धरती को किस प्रकार उठाकर बचाया था। इसमें पृथ्वी गोलाकार ही दिखाई गई है। जय सत्य सनातन ।
-Gn

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 313 Views
You may also like:
Revenge shayari
★ IPS KAMAL THAKUR ★
“ अकर्मण्यताक नागड़ि ”
DrLakshman Jha Parimal
लड़की भी तो इंसान है
gurudeenverma198
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
* नियम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विद्या की देवी: सावित्रीबाई
Shekhar Chandra Mitra
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
'अशांत' शेखर
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
Advice
Shyam Sundar Subramanian
तुम कैसे रहते हो।
Taj Mohammad
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
शरद पूर्णिमा (मुक्तक)
Ravi Prakash
यादें
kausikigupta315
भीड़ का अनुसरण नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मेरे सपने
सूर्यकांत द्विवेदी
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
अरविन्द व्यास
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
दिलों की बात करता है जमाना पर मोहब्बत आज भी...
Vivek Pandey
🚩उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन के दिन थोड़े
Satish Srijan
करना है, मतदान हमको
Dushyant Kumar
तुम्हारी यादों में सो जाऊं
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
"शिवाजी महाराज के अंग्रेजो के प्रति विचार"
Pravesh Shinde
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
दादी माँ
Fuzail Rana
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
श्रृंगार करें मां दुल्हन सी, ऐसा अप्रतिम अपरूप लिए
Er.Navaneet R Shandily
Loading...