Oct 1, 2016 · 1 min read

सदियों सज़ा मिली

शादाब मौसमों की जो रंगीं फ़िज़ा मिली
गुलशन में झूमती हुई बाद-ए-सबा मिली
गुजरा हूँ मैं चमन से तो ऐसा लगा मुझे
कलियों को मुस्कुराने की तुझसे अदा मिली
इस दौर में शराफत-ए-इंसां कहाँ रही
अहद-ए-वफ़ा की जिससे उसी से जफ़ा मिली
दर से ख़ुदी में जब भी उठे है मेरे क़दम
हर मोड़ पे हिदायत-ए-मुश्किल कुशा मिली
दीवार क्या उठाई बुज़ुर्गों ने सेहन में
आपस में लड़ते रहने की सदियों सज़ा मिली
ग़ाज़ी मेरे दिए को बुझाने के वास्ते
तेवर बदल बदल के मुख़ालिफ़ हवा मिली

83 Views
You may also like:
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
Little sister
Buddha Prakash
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
Loading...