Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2022 · 1 min read

सदियों बाद

सदियों बाद
मन ने एक बार फिर
उड़ान भरी
जा बैठा
प्रेम की ऊंची टहनी पर
बनाने लगा घोंसला
जुटाने लगा तिनका
जीवन की हर
कही अनकही कहानियों से
तभी ज्ञान के मेघों ने
अनुभव की अनगिनत
बूंदे बरसा दी
घोंसला अधूरा रह गया
मन फिर
अपने कोटर में दुबक गया|

1 Like · 129 Views
You may also like:
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
कविता
Mahendra Narayan
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr.Alpa Amin
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ समझ में
Dr fauzia Naseem shad
बे'एतबार से मौसम की
Dr fauzia Naseem shad
कभी कभी।
Taj Mohammad
अपराधी कौन
Manu Vashistha
सूरज काका
Dr Archana Gupta
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
तुम्हारा शिखर
Saraswati Bajpai
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
काश।
Taj Mohammad
रक्षाबंधन
Utsav Kumar Aarya
पुस्तक समीक्षा : सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
पिता
KAMAL THAKUR
Loading...