Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

सदियों की साज़िश

हाय,समझा था हमने तुमको
किसी भगवान की तरह
लेकिन पेश आए तुम हमसे
एक शैतान की तरह …
(१)
हम तुमसे गाली सुनकर भी
तुम्हारी इज्जत करते रहे
अपनों को भूखा रखकर भी
तुम्हारी तिज़ोरी भरते रहे
हाय, पूजा था हमने तुमको
किसी भगवान की तरह
लेकिन पेश आए तुम हमसे
एक शैतान की तरह…
(२)
तुमने अपनी हर बात को
पत्थर की एक लकीर कहा
गुरबत और गुलामी को
हम लोगों की तकदीर कहा
हाय, माना था हमने तुमको
किसी भगवान की तरह
लेकिन पेश आए तुम हमसे
एक शैतान की तरह…
(३)
तुमने एक साज़िश के तहत
तालिम से हमको दूर किया
तंगनजरी और ज़हालत को
इस मुल्क का दस्तूर किया
हाय, सोचा था हमने तुमको
किसी भगवान की तरह
लेकिन पेश आए तुम हमसे
एक शैतान की तरह…
(४)
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#इंकलाब #क्रांतिकारी #अवामी #शायर
#गीतकार #जनवादी #lyricist #Caste
#मनुवादी #सामंतवादी #पितृसत्ता #बहुजन

17 Views
You may also like:
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
पिता
Buddha Prakash
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...