Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2017 · 1 min read

🪔सत् हंसवाहनी वर दे,

🔔प्रार्थना
………….
सत् हंसवाहनी वर दे, सत् हंसवाहनी वर दे ।
समता-ममता के पीयूष से, नव भारत भर दे ।

🥎
अंतर्ज्ञान जगा दे मैया , कभी न रहूँ विकल मैं।
बना दूरदर्शी,कर दो शुभ-उज्जवल जीवन पल में ।
मेरे मन के सद् भक्ति-भाव को मृदु-अनंत कर दे ।
सत् हंस वाहिनी वर दे, सत् हंसवाहनी वर दे ।

🥎
आद्योपान्त सुज्ञान सजग आद्ध्यात्मिकसत्-वर्षा कर।
प्राणिमात्र में भी प्रसन्नता की संपूर्ण प्रभा भर ।
शुभ स्वर्ग-सदृश हो मृत्युलोक,सह दत्तचित्त कर दे ।
सत् हंसवाहनी वर दे, सत् हंसवाहनी वर दे ।

🥎
हर अगम्य नरपथ से उन्मूलन कुरीतियों का कर ।
वैज्ञानिक हो सोच, कर्म सब ठोस व वुद्धि प्रखरतर।
“नायक बृजेश ” राष्ट्रीय एकता के अखंड कर दे ।
सत् हंसवाहनी वर दे, सत् हंसवाहनी वर दे ।
…………………………………………………

💙2013 में जे एम डी पब्लिकेशन से प्रकाशित मेरी कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” की उक्त रचना को 2018 मे नया कवर और नया आई एस बी एन के साथ “साहित्यपीडिया पब्लिशिंग” से प्रकाशित उक्त “जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

💙 “जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति/काव्यसंग्रह
का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 851 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
तुम इन हसीनाओं से
तुम इन हसीनाओं से
gurudeenverma198
तेरा चलना ओए ओए ओए
तेरा चलना ओए ओए ओए
The_dk_poetry
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD KUMAR CHAUHAN
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कोरोना दोहा एकादशी
कोरोना दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"The Power of Orange"
Manisha Manjari
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
पूछ रहा है मन का दर्पण
पूछ रहा है मन का दर्पण
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️झूठ और सच✍️
✍️झूठ और सच✍️
'अशांत' शेखर
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
Taj Mohammad
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
#dr Arun Kumar shastri
#dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नज़र से नज़र
नज़र से नज़र
Dr. Sunita Singh
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
Dr fauzia Naseem shad
#आज_का_संदेश
#आज_का_संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*
*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
कलंकित मानवता
कलंकित मानवता
Shekhar Chandra Mitra
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
मंथन
मंथन
Shyam Sundar Subramanian
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
इन्तेहा हो गयी
इन्तेहा हो गयी
shabina. Naaz
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...