Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 26, 2016 · 1 min read

सत्य” नहीं “अर्धसत्य”

ये “सत्य” नहीं “अर्धसत्य” है…

बरसों से “कलम” भी बिकती है
“कलमकार” भी बिकता है…
तभी तो सरेबाज़ार
“विद्या की किताबें” बिकती हैं
सुबह-सुबह “अखबार” बिकता है…

दुनिया ज़रूर पलट कर पूछती
“पत्रकारों” का हाल
पर सच तो ये है…
कोठे की मुन्नीबाई की तरह
अब पत्रकार बिकता है…

Suneel Pushkarna

190 Views
You may also like:
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
Love Heart
Buddha Prakash
चल-चल रे मन
Anamika Singh
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी जां।
Taj Mohammad
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
Loading...