Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2022 · 1 min read

सत्य कभी नही मिटता

सत्य आजकल दब रहा है
झुठी – झुठी बातों से,
होठों ने भी सीख लिया है
हँसना झुठी बातों पर।

जीवन के इस चौसर पर
हार रहे है सत्यवादी,
झूठो का है बोल – बाला
सब खुद को कहते है अहिंसावादी।

सत्य बोलने वाले आजकल
हो रहे हर जगह परेशान,
झुठ बोलने वाले को मिलता
वाह – वाह क्या सम्मान।

मौके देख बदल जाते है
आजकल अक्सर लोग,
जो खुद को करीबी बताते थे
वहीं लगा रहे अभियोग।

अपनी भोग खातिर आजकल
लोग सत्ता बदलने लगे है,
जीतने के लिए हर दिन आजकल
नए – नए प्रयोग करने लगे।

जो कल तक बड़ी – बड़ी बातें कर
लोगों से माँगते थे सहयोग,
आज वहीं कहने लगे है
जेब में अगर पैसा हो तो
पीछे घूमते है दस लोग।

कोई उन्हें कैसे समझाएँ
झूट के पाँव नहीं होते है।
सत्य चाहे कितना भी गहरा,
क्यों नही दफन हो,
एक नही एक दिन बाहर
निकल कर आ जाता है।

इसलिए कहा जाता है :
सत्य को कितना भी छुपा लो
वह कभी नही छुपता है,
लाख मिटा लो सत्य को
वह कभी नहीं मिटता है।

~ अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 2 Comments · 268 Views
You may also like:
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आजकल इश्क नही 21को शादी है
Anurag pandey
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
चरैवेति चरैवेति का संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Iran Revolution
Shekhar Chandra Mitra
मैं उसकी ज़िद हूँ ...
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta ( bloger) Gupta
महर्षि बाल्मीकि
Ashutosh Singh
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
छठ है आया
Kavita Chouhan
दीप आवाहन दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*फिर बंसी बजाओ रे (भक्ति गीतिका )*
Ravi Prakash
मालूम था।
Taj Mohammad
“ फेसबुक के दिग्गज ”
DrLakshman Jha Parimal
काश आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
दोहे एकादश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
Loading...