Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

सत्यमेव जयते

भारत की नारी के क्रंदन ने ,
आर्त पुकार ने,
हर मानुष को एक बार पुनः सोचने के लिए मजबूर कर दिया होगा……………

दर्द घटता ही नहीं, बढ़ता जा रहा है,
सलवटें मिटती नहीं, बढ़ती जा रही हैं,
लोगों की नजरों में प्यार की थपकी नहीं,
घृणा व जिल्लत की दुत्कार है,
क्यों ?
शरीर विदीर्ण कर डाला इसलिए ,
निचला हिस्सा फट गया इसलिए,
बदहाल हालत थी इसलिए,
जिंदा जला डाला इसलिए,
रेल की पटरी पर फेंका इसलिए,
तेजाब फेंका इसलिए…………

बड़ी ही अच्छी बात कही ,
सड़क पे चलते कुत्ते ने काटा तो ,
सहानुभूति व दया की सौगात………
इस बर्बरता……… व क्रूरता के बदले क्या ?
प्रश्नों की बौछार,
अश्लीलता की हदें पार,
व्यक्ति परिवार समाज अदालत हर कटघरे में,
क्यों ?

उस नन्ही मासूम बच्ची ,
जिसने सीखा भी न था बोलना,
घर से बेघर हुई,
समाज की हिकारत सही,
न जाने कितने दिनों तक चूल्हा न जला,
क्यों ?

बेबसी का आलम इतना दर्दनाक,
बालिका, युवती , प्रौढ़ा, वृद्धा,
स्त्री का हर रूप इस बर्बरता का शिकार,
मासूमियत की सजा है ये ?
क्या है?
हर रूप में दोषी नजरों से बिंधती स्त्री ही क्यों ?
चाक के हर पाट में पिसती क्यों?
सवालों के कटघरों से जूझती क्यों?
क्रूरता की हदें पार करता, दानवीयता का,
हर शिकार,
स्त्री ही क्यों?
सामूहिक हो या एकल हो !
नृशंस समाज की नग्नता का चिग्घाड़ करती है ये हैवानियत……

मेरे शब्दों की औकात नहीं कि,
उस टभकते, चुभते , मसोसते, सुलगते दर्द को,
उकेर सके………………….

सिर्फ नम आँखें कब तक ?
एक बिगुल है , उद्घोष है,
उस खौलते,उबलते उफान की सच्ची तस्वीर है ” सत्यमेव जयते” की पहल,
हर स्त्री की पीड़ा का, कराह का मंच है,
जहां अस्पतालों और पुलिस का कच्चा चिट्ठा है खुला,
वहीं एक रोशनी की किरण है,
अब हर नज़र में थोड़ी तो हया होगी,
अब दर्द शायद महीनों, सालों, अरसों सजोना न होगा,
अगली पेशी के लिए उमड़ते सैलाब से,
हर चुभन बह जाने को तैयार होगी,
जगमगाहट में आँखें चौंधियाँ के झुकेंगी नहीं,
सृष्टि के हर जर्रे में मधुमास होगा,
दर्द को कुरेदते काँटों से, सवाल न होंगे,
बह जाएगा दर्द,
दर्द मुझे देकर जो चैन से जी रहा था,
जिसे लोगों ने मुझे चाह कर भी भूलने न दिया,
जब तक पूरता तब तक फिर कुरेद देते,
इस खूफ़्र से बाहर आकर,
जीउंगी मैं , गढ़ूँगी मैं नए सपने,
कुचल के रख दूँगी दरिंदों को,
इस उम्मीद का दामन थामे रखूंगी हर कदम,
क्योंकि पूरा भारत शायद उनींदी से जाग रहा है…………
जय हो भारत… सत्यमेव जयते ।

( हम सबको अपनी पहल करनी होगी ,
क्योंकि हर बूंद का अपना अस्तित्व है )

209 Views
You may also like:
पिता
Buddha Prakash
पापा
सेजल गोस्वामी
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
संत की महिमा
Buddha Prakash
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Santoshi devi
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
हम सब एक है।
Anamika Singh
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...