Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 11, 2016 · 1 min read

सत्यके सुदर्शन जिसे होते हैं:: जितेंद्रकमल आनंद ( पोस्ट१४०)

घनाक्षरी:–
———- सत्यके सुदर्शन जिसे होते हैं अलौकिक ,
आत्मपद पर वही होता है सुशोभित ।
निरावृत दृष्टि और पाकर वह सद्ज्ञान,
खिल कर कमल – सा होता है सुवासित ।
क्षणभंगुरता को है जो मानता न शाश्वत,
लाभ पा आथ्यात्मिक होता है सुविकसित।
निरायास, निर्विकार, होकर जो निर्विचार,
रहता उदारमना और सुप्रतिष्ठित ।।३/ ७६!!

—- जितेंद्रकमलआनंद
शिव मंदिर , सॉई विहार, रामपुर ( उत्तर प्रदेश )
७०१७७११०१८

1 Comment · 124 Views
You may also like:
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
Aruna Dogra Sharma
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H. Amin
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मैं
Saraswati Bajpai
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
सच्चाई का दर्पण.....
Dr. Alpa H. Amin
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
कौन मरेगा बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मतदान का दौर
Anamika Singh
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
Accept the mistake
Buddha Prakash
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इज्जत
Rj Anand Prajapati
नवगीत
Mahendra Narayan
Loading...