Sep 30, 2016 · 1 min read

कटे सब पेड़ जंगल के

कटे सब पेड़ जंगल के हुआ अब ठूँठ जग सारा
सुहानी इस धरोहर पर गया अब रूठ जग सारा।
लगाया जा रहा वन बाग अब कागज़ के पन्नों पर
वनों को बेचकर कहने लगा अब झूठ जग सारा।।

127 Views
You may also like:
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"साहिल"
Dr. Alpa H.
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
धुँध
Rekha Drolia
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Shailendra Aseem
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बद्दुआ।
Taj Mohammad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कविराज
Buddha Prakash
अंदाज़।
Taj Mohammad
प्रेम
Dr.sima
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सलाम
Shriyansh Gupta
Loading...