Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 1 min read

सजा दें

मुहब्बत दिखा जब किसी से फँसा है
कभी क्यों न उसको जरा सी सजा दें

दुखाया किसी का कभी दिल न तूने
दुआ को सभी की सदा ही फला दें

दिया साथ जो झूँठ का जब न तूने
सही बात से क्यों न परदा उठा दें

दिखा आयना जो लुभाया सभी को
वहीं प्यार तू सभी पर लुटा दें

Language: Hindi
Tag: शेर
73 Likes · 255 Views
You may also like:
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
सफर में।
Taj Mohammad
ईश्वर के रूप 'पिता'
Gouri tiwari
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
मुख़ौटा_ओढ़कर
N.ksahu0007@writer
मेरा यकीन
shabina. Naaz
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अवसर
Shekhar Chandra Mitra
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जिनकी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️ये भी अज़ीब है✍️
'अशांत' शेखर
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
कब तुम?
Pradyumna
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दीप संग दीवाली आई
डॉ. शिव लहरी
लिहाज़
पंकज कुमार कर्ण
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
तुम मेरे मालिक मेरे सरकार कन्हैया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हाँ, यह विदाई बहुत अच्छी है
gurudeenverma198
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुआ आई
राजेश 'ललित'
*योगी आदित्यनाथ के प्रति आस्थावान रामपुर का एक दृश्य*
Ravi Prakash
ये इत्र सी स्त्रियां !!
Dr. Nisha Mathur
जिन्दगी के राहों मे
Anamika Singh
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
प्रतियोगिता
krishan saini
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
Loading...