Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2022 · 1 min read

सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है

सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
इसी का नाम तो जिंदगानी है
लोग सुनते हैं बहुत गौर से दास्तां सबकी
यही तो बस उनकी मेहरबानी है
कुछ निकल जाते पास से अनसुना करके
उनको लगता है ये बदगुमानी है
कुछ सुनते हैं पास आकर सदाएं दिल की
जैसे यह उनकी अपनी कहानी है
कहानियां याद रहती हैं सदा-सदा के लिए
जैसे किसी की अमिट निशानी हैं
“विनोद”मत उलझ इन कहानियों में ऐसे
तूं भी सुना दास्तां अगर सुनानी है

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 176 Views
You may also like:
यह सच आज मुझको मालूम हो पाया
gurudeenverma198
बेवफाई
Dalveer Singh
भुलाना हमारे वश में नहीं
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
✍️वास्तव....
'अशांत' शेखर
भोजन
लक्ष्मी सिंह
*रुकता किसका काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी आजादी बाकी है
Deepak Kohli
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
मन
शेख़ जाफ़र खान
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
त्योहार पक्ष
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
" परिवर्तनक बसात "
DrLakshman Jha Parimal
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
शिव दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...