May 13, 2022 · 1 min read

सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है

सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
इसी का नाम तो जिंदगानी है
लोग सुनते हैं बहुत गौर से दास्तां सबकी
यही तो बस उनकी मेहरबानी है
कुछ निकल जाते पास से अनसुना करके
उनको लगता है ये बदगुमानी है
कुछ सुनते हैं पास आकर सदाएं दिल की
जैसे यह उनकी अपनी कहानी है
कहानियां याद रहती हैं सदा-सदा के लिए
जैसे किसी की अमिट निशानी हैं
“विनोद”मत उलझ इन कहानियों में ऐसे
तूं भी सुना दास्तां अगर सुनानी है

1 Like · 21 Views
You may also like:
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
उस दिन
Alok Saxena
ऊपज
Mahender Singh Hans
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
ऐ वतन!
Anamika Singh
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
पितृ स्तुति
yadu.dushyant0
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...