Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-362💐

सच बताना अकेले में कितने ख़्याल आए मेरे,
बताना दिल की कितनी गहराई में समाए मेरे,
मुझे पता है कि उन्हें एतिबार है बहुत एतिबार,
सभी पर्दा-ए-ग़ैब^ उन्होंने मुस्कुराकर हटाए मेरे।

^ईश्वर और मनुष्य के बीच आंतरिक दुनिया का पर्दा

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुना है सपने सच होते हैं।
सुना है सपने सच होते हैं।
Shyam Pandey
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
Tarun Prasad
***
*** " ये दरारें क्यों.....? " ***
VEDANTA PATEL
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
Anil Mishra Prahari
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
केहरि बनकर दहाड़ें
केहरि बनकर दहाड़ें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
होली की मुबारकबाद
होली की मुबारकबाद
Shekhar Chandra Mitra
मैंने पीनी छोड़ तूने जो अपनी कसम दी
मैंने पीनी छोड़ तूने जो अपनी कसम दी
Vishal babu (vishu)
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
भूत प्रेत का भय भ्रम
भूत प्रेत का भय भ्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Satish Srijan
"गॉंव का समाजशास्त्र"
Dr. Kishan tandon kranti
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
रिश्ता ऐसा हो,
रिश्ता ऐसा हो,
लक्ष्मी सिंह
आप तो आप ही है
आप तो आप ही है
gurudeenverma198
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
अपना प्यारा जालोर जिला
अपना प्यारा जालोर जिला
Shankar J aanjna
🌺प्रेम कौतुक-192🌺
🌺प्रेम कौतुक-192🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो बनना चाहते हो
जो बनना चाहते हो
dks.lhp
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
डी. के. निवातिया
Choose yourself in every situation .
Choose yourself in every situation .
Sakshi Tripathi
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
Loading...