सच की हालत

आज सच पराजित होने की कगार पर खड़ा है।
पर सच है कि झूठ को हराने की जिद्द पर अड़ा है।

झूठ की चालों का तोड़ नहीं है आज सच के पास,
यूँ ही झूठ के तीरों से घायल हुआ आज सच पड़ा है।

घोर कलयुग का ये असर है जो सच कमजोर हो गया है,
बस छलकने की देर है वरना झूठ का भरा हुआ घड़ा है।

देर हो सकती है पर अंधेर हो जाये ये मुमकिन नहीं,
इतिहास में झाँक कर देख लो झूठ से सच होता बड़ा है।

सच केवल अपने सहारे अपने हक की लड़ाई लड़ता है,
पर झूठ हमेशा छल, कपट, बेईमानी के सहारे लड़ा है।

ज़माने वाले कहते हैं कि सच की कभी हार नहीं होती,
धैर्य आजमाने को थोड़ी देर के लिए झूठ से पिछड़ा है।

झूठ की आँखों में सच हमेशा ऐसे खटकता रहता है,
जैसे चोरों की नजरों में खटकता हार मोतियों जड़ा है।

“सुलक्षणा” डरे बिना सच का दामन थामे रहना ताउम्र,
आज आज का नहीं झूठ सच का सदियों का झगड़ा है।

131 Views
You may also like:
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
लत...
Sapna K S
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
इस शहर में
Shriyansh Gupta
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
आप कौन है
Sandeep Albela
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
Born again with love...
Abhineet Mittal
"बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
Loading...