Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2023 · 1 min read

सच्ची पूजा

ताकत और कुर्सी का ऐसा रुतबा देखकर मेरी आँखें शरमा गई,
वतन पर जान न्यौछावर करने वाले शहीदों की याद आ गई I

फूलों की कलियों पर रुतबे की चाबुक घुमाकर क्या मिलेगा ?
मजलूमों की मान-अस्मिता मिट्टी में मिलाकर क्या मिलेगा ?
बाग़ के भूखे-प्यासे पौधों पर तलवार चलाकर क्या मिलेगा ?
गुलशन के नौनिहालों के भविष्य को तबाह कर क्या मिलेगा ?

ताकत और कुर्सी का ऐसा रुतबा देखकर मेरी आँखें शरमा गई,
वतन पर जान न्यौछावर करने वाले शहीदों की याद आ गई I

फूलों को बाँटते -२ प्यारे गुलशन को कहाँ पहुँचा दिया ?
फूल-पत्तियों को एक -२ बूँद पानी का मोहताज बना दिया ,
गरूर के आगोश में वो कहते है ,फूलों को नगीना बना दिया ,
बाग़ के माली ने सच के ऊपर झूठ का मुलम्मा चढ़ा दिया I

ताकत और कुर्सी का ऐसा रुतबा देखकर मेरी आँखें शरमा गई,
वतन पर जान न्यौछावर करने वाले शहीदों की याद आ गई I

“ राज ” क्यों आया जहाँ में ? एक दिन छोड़कर जाना भी पड़ेगा ,
प्यार की किताब का पन्ना पढ़कर मालिक को सुनाना भी पड़ेगा,
झूठ,घ्रणा,नफरत की गठरी को सच के समंदर से छिपाना पड़ेगा,
इंसान-२ से मोहब्बत ही “सच्ची पूजा” मालिक को बतलाना पड़ेगा,

ताकत और कुर्सी का ऐसा रुतबा देखकर मेरी आँखें शरमा गई,
वतन पर जान न्यौछावर करने वाले शहीदों की याद आ गई I
******************************************************
देशराज “राज”
कानपुर

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 75 Views

Books from DESH RAJ

You may also like:
नफ़रत की सियासत
नफ़रत की सियासत
Shekhar Chandra Mitra
बाल कहानी- प्यारे चाचा
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया में क्यों दुख ही दुख है
दुनिया में क्यों दुख ही दुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज की प्रस्तुति: भाग 5
आज की प्रस्तुति: भाग 5
Rajeev Dutta
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
'अशांत' शेखर
ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे
ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
-------ग़ज़ल-----
-------ग़ज़ल-----
प्रीतम श्रावस्तवी
फ़ासले मायने नहीं रखते
फ़ासले मायने नहीं रखते
Dr fauzia Naseem shad
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
Ravi Prakash
In the end
In the end
Vandana maurya
घोर अंधेरा ................
घोर अंधेरा ................
Kavita Chouhan
हमारा सब्र तो देखो
हमारा सब्र तो देखो
Surinder blackpen
आदि -बन्धु
आदि -बन्धु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समारंभ
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दवा दे गया
दवा दे गया
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
दीदार ए वक्त।
दीदार ए वक्त।
Taj Mohammad
Rose Day 7 Feb 23
Rose Day 7 Feb 23
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
आर.एस. 'प्रीतम'
"भैयादूज"
Dr Meenu Poonia
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बंधन दो इनकार नहीं है
बंधन दो इनकार नहीं है
Dr. Girish Chandra Agarwal
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
💐प्रेम कौतुक-481💐
💐प्रेम कौतुक-481💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
क्या दिखेगा,
क्या दिखेगा,
pravin sharma
Loading...