Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

सच्चाई से मिल गया हु

दुनिया की नज़र मे मै गुम गया हु।
सच पुछो तो सच्चाई से मिल गया हु।

कभी शोलो से खेला करता था,
पर आज शबनम से जल गया हु।

गैरो से गले लग कर ईद और दिवाली मनाता रहा,
जमी पर चलने क्या, लगा कि अपनो को खल गया हु।

मुझे संभालना काफिलो का जिम्मा है,
पैर जख्मी है, फिर भी चल गया हु।

शाहीने परबाज मुझे ढुङो,
बजंर जमी मे भी खिल गया हु।
✍ राजेन्द्र कुशवाहा

Language: Hindi
280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
💐प्रेम कौतुक-501💐💐
💐प्रेम कौतुक-501💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते
रिश्ते
Ashwani Kumar Jaiswal
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
याद में
याद में
sushil sarna
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
पड़े विनय को सीखना,
पड़े विनय को सीखना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
2433.पूर्णिका
2433.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
_सुलेखा.
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU
*गाओ  सब  जन  भारती , भारत जिंदाबाद   भारती*   *(कुंडलिया)*
*गाओ सब जन भारती , भारत जिंदाबाद भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
"मेरे नाम की जय-जयकार करने से अच्‍छा है,
शेखर सिंह
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
कार्तिक नितिन शर्मा
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Loading...