Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 25, 2022 · 2 min read

*संस्मरण : श्री गुरु जी*

*संस्मरण : श्री गुरु जी*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
गुरु जी ने मुझे गोद में लिया । कहने लगे -“अबोध है ! “और फिर होठों से हल्की-सी फूँक मेरे मुख को सौंप दी । यह गुरु जी का आशीर्वाद था ,जो मुझे उस समय प्राप्त हुआ जब वास्तव में मैं अबोध ही था ।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री माधव राव सदाशिव राव गोलवलकर “गुरुजी” हमारे घर पर पधारे थे। पिताजी श्री राम प्रकाश सर्राफ ने मुझे आशीर्वाद दिलाने के उद्देश्य से गुरुजी की गोद में दिया था । महापुरुषों की गोद का सौभाग्य पुण्यों के फल-स्वरुप ही प्राप्त होता है ।
गुरुजी भारत की महान ऋषि परंपरा के सर्वोत्कृष्ट प्रतिनिधि थे । वह संत और संन्यासी थे । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का उत्तरदायित्व बहुत यत्न-पूर्वक डॉ. हेडगेवार जी ने उन्हें सौंपने में सफलता प्राप्त की थी।
गुरुजी से पिताजी का संबंध संगठन से बढ़कर एक व्यक्तिगत मार्गदर्शक का हो चुका था । 19 जनवरी 1956 में जब श्री सुंदरलाल जी के देहांत ने पिताजी को अत्यंत व्यथित कर दिया ,तब अपने मन की पीड़ा उन्होंने एक पत्र के माध्यम से गुरु जी को ही लिख कर भेजी थी । न जाने वह पत्र आंतरिक पीड़ा का कौन-सा महासागर समेटे हुए था कि गुरुजी उसे पढ़कर द्रवित हो उठे । सांत्वना के लिए एक लंबी चिट्ठी उन्होंने पिताजी को भेजी। बाद में जब पिताजी ने सुंदर लाल इंटर कॉलेज की स्थापना की ,तब श्री नानाजी देशमुख आदि के साथ-साथ गुरुजी का शुभकामना संदेश भी प्राप्त हुआ था।
1977 में मुझे दीनदयाल शोध संस्थान दिल्ली में जाने का अवसर प्राप्त हुआ था। वहाँ जीने की सीढ़ियाँ चढ़ते हुए श्री गुरु जी का आदमकद चित्र लगा दिखा था। इतना सुंदर कि सजीव जान पड़ता था।
श्री नानाजी देशमुख को जब भारत रत्न पुरस्कार मिला तो यह एक प्रकार से समूची संघ और जनसंघ परंपरा को प्रणाम था।
——–—————————————-
रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

148 Views
You may also like:
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️Happy Friendship Day✍️
'अशांत' शेखर
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
✍️एक चूक...!✍️
'अशांत' शेखर
✍️ख़्वाबो की अमानत✍️
'अशांत' शेखर
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️तमाशा✍️
'अशांत' शेखर
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे प्यारे भईया
Dr fauzia Naseem shad
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
याद बीते दिनों की - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
अंदाज़ जुदा होता है।
Taj Mohammad
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
आज भी याद है।
Taj Mohammad
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
“माँ भारती” के सच्चे सपूत
DESH RAJ
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राहों के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
✍️स्टेचू✍️
'अशांत' शेखर
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...