Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2024 · 1 min read

संवेदना की आस

संवेदना की आस पर, जी रहे हैं सब यहां
एक दूजे के प्रेम से जीवन का यथार्थ यहां।।
वसुन्धरा का उपकार बढा, भार जो सबका सहा..
मुझमें हो जो संवेदना,धरती मां का संरक्षण करूं।।
वृक्षों ने हमें फल दिये,शीतल छाया की शरण मिली
प्राण वायु जो दे रहे,वृक्षों के उपकार बढे.. संवेदना मुझ में जगा..
क्यों प्राण उनके संकट में पड़े, कंक्रीट के महल खड़े किये.. कहां गयी संवेदना प्राण अपने भी दाव पर लगे..
जल ही जीवन तो कहा.. पर उस जल पर ही संकट पड़ा..
स्वार्थ की धुंध में सब कुछ थुमिल हुआ..
आंधियों की उठापटक, सब कुछ तितर-बितर हुआ
अपना ही सब समेट रहे.. रो रहा कोई दूजी और खड़ा..
पेट किन्हीं के फट रहे, कोई भूख से तड़फ रहा।
कहाँ गयी संवेदना कोई देखो तो जरा..
ऊंच-नीच के भेद में अंहकार का तांडव बड़ा..
कराह रही मानवता.. संवेदना तू जाग जरा..
आस में तेरी यहाँ, मानवता को जगा, त्याग, दया प्रेम भाव की संवेदना की मशाल को तुझमें जगा।।

2 Likes · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ritu Asooja
View all
You may also like:
"ढोंग-पसंद रियासत
*Author प्रणय प्रभात*
किससे कहे दिल की बात को हम
किससे कहे दिल की बात को हम
gurudeenverma198
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
Mahender Singh
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुझसे मिलने के बाद ❤️
तुझसे मिलने के बाद ❤️
Skanda Joshi
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
surenderpal vaidya
रिस्ता मवाद है
रिस्ता मवाद है
Dr fauzia Naseem shad
औरों की उम्मीदों में
औरों की उम्मीदों में
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
वसन्त का स्वागत है vasant kaa swagat hai
वसन्त का स्वागत है vasant kaa swagat hai
Mohan Pandey
बुझ गयी
बुझ गयी
sushil sarna
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
इश्क की खुमार
इश्क की खुमार
Pratibha Pandey
डोर
डोर
Dr. Mahesh Kumawat
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
खून के रिश्ते
खून के रिश्ते
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू है
तू है
Satish Srijan
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
Loading...