Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 2 min read

संविधान निर्माता को मेरा नमन

हम सब भारतीय हैं lहमारा देश भारत हैं ,किसी भी देश का संविधान उस देश की आत्मा होती हैं भारत का संविधान भी उसकी आत्मा हैं ज़िसको बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर ने लिखा और उनके द्वारा संविधान इसलिये लिखा गया क्यूकी उनकी शिक्षा उच्च थी इसलिये नही की वो किसी विशेष जाति से थे वो जो भी थे अपनी उच्च शिक्षा के दम पर थे l
उनको एक सम्मान का दर्जा दिया गया पर आज भी लोगो की मानसिकता मे तब से लेकर अभी तक कुछ खासा अंतर नही आय़ा हैं
आज ज़हा हम सब अम्बेडकर जयंती मना रहे हैं तो वो भी एक विशेष जाति समुदाय द्वारा….बहुत से लोग स्टेटस लगा रहे हैं जो विशेष जाति
से संबंधित हैं बाकी 100 प्रतिशत मे से 10 प्रतिशत लोग ही हैं जो संविधान को समझ पा रहे हैं जो किसी भी वर्ग से आते हैं लोग हर
तरह की जयंती मना लेते हैं पर लोगो को लगता हैं की यह तो हमारा त्योहार नही हैं विशेष जाति का हैं l
य़ा अगर हम इस से संबंधित स्टेटस य़ा इस बारे मे बात कर लेंगे तो हमको लोग समाज पता नही क्या समझ लेगा और बात तरफ इन जैसे लोगो को आरक्षण से दिक्कत हैं ….अगर आज भी समाज मे यही मानसिकता हैं तो फिर आज भी आरक्षण बहुत सही हैं और होना ही चाहिए l
हमारा देश हमारे लिए सर्वोपरी होना चाहिए पर जो देश और देश का आत्मा को नही जान सके वो भारतीय भी नही हो सकते l
मेरे लिए कोई धर्म कोई जाति सब एक बराबर हैं बस मैं भारतीय हूँ ये अच्छे से जानती हूँ इसके साथ ही सभी भारतियो को अम्बेडकर जयंती की शुभकामनायें 🙏 सुरभी भारती

2 Likes · 2 Comments · 85 Views
You may also like:
✍️वो मील का पत्थर....!
"अशांत" शेखर
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
जिज्ञासा
Rj Anand Prajapati
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता की सीख
Anamika Singh
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
मै वह हूँ।
Anamika Singh
I feel h
Swami Ganganiya
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
काँटा और गुलाब
Anamika Singh
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...