Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

संबंध

संबंधों पर सोच कर, कहता हूँ एक बात
रिश्तों मे रखना सदा, समय परख जज्बात
समय परख जज्बात, अगर ना होंगे मन में
टूट जाए संबंध, घुटन सी रहे जहन में
कह कान्हा कविराय, दृढ़ रहो अनुबंधों पर
रखो भरोषा आप , सदा ही संबंधों पर ।।

284 Views
You may also like:
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ हम भी बदल गये
Dr fauzia Naseem shad
✍️एक ख़्याल बसे वो भी तो नसीब है✍️
'अशांत' शेखर
गजल क्या लिखूँ कोई तराना नहीं है
VINOD KUMAR CHAUHAN
रात में सो मत देरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
पेश आना अब अदब से।
Taj Mohammad
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तपिसों में पत्थर
Dr. Sunita Singh
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
फैल गया काजल
Rashmi Sanjay
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
✍️मैं जलजला हूँ✍️
'अशांत' शेखर
मेरा दिल गया
Swami Ganganiya
अदना
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Madhu Sethi
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
✍️इश्क़ के बीमार✍️
'अशांत' शेखर
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
Loading...